blogid : 4776 postid : 45

बाघों के लिए चाहिए जंगल

Posted On: 16 Mar, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज कल के समय में लोग जंगलों को काटते जा रहे हैं जंगलों के कटने से बाघ खत्म होते जा रहे हैं जो हमारे देश के लिए खतरनाक साबित होता जा रहा है आजादी के समय हमारे यहां बाघ 72000 हजार थे सन् 2011 में कुछ हजार रह गए और अब केवल अंगुलियों की संख्या से भी कम रह गए हैं. समस्या इस बात की है इनको बसाने के लिए जंगल चाहिए लेकिन जंगलों में अब गांव के लोग ही रहने लगे हैं लेकिन अब उनको बसाने की कवायद शुरु की जा रही है जिसके लिए रणथम्भौर से लाए गए दो बाघों को लाया गया और उनको बसाने की कवायद शुरु की जा रही है जिसके चलते गांव वासियों को हटाने का प्रयास किया जा रहा है रणथम्भौर से लाए गए बाघों की संख्या में अब इजाफा हो रहा है और उमड़ी गांव वालों को विशेष अनुदान देकर उनको वहां से हटाया जा रहा है और गांवों को फिर से जंगल की ओर तब्दील किया जा रहा है. अगर ऐसी शुरुआत है तो बहुत अच्छी शुरुआत है इससे हमारे देश का बाघों की संख्या में इजाफा होगा और पूर्णत: शहरीकरण होते इस देश में जंगलों को तो बसाना ही होगा.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Jamuna के द्वारा
March 17, 2012

कपिल जी, अकसर देखा गया है कि जो चीज भारत में दुर्लभ होती है उसमे माफिया कही न कही वास जरूर करती है. बाघों का भी यह हाल है http://jamuna.jagranjunction.com/2012/03/16/sachin-tendulkar-finally-hits-100th-international-century-%E2%80%8E/


topic of the week



latest from jagran