blogid : 4776 postid : 37

मैच तो देश का है हमसे क्या

Posted On: 11 Aug, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

क्या खेल अब खेल की भावना से खेला जाता है या इसको इसको रुपए की भावना से खेला जाता है अगर हम चलेंगे तो हमारे पास रुपया भी आएगा जो कि सहवाग विज्ञापन में कहते हैं जब तक बल्ला चल रहा है तब तक ठाठ हैं और क्या ठाठ हैं चाहें धोनी का बल्ला चले तो ठाठ हैं या सचिन का चले या किसी और का चले तो ठाठ हैं। आते तो सबके पास रुपए ही है चाहें जैसे ही आए। क्योंकि देश तो यह उम्मीद लगाए रहता है कि यह इस मैच में हमारी भावना को समझेंगे और देश को जीत हासिल करवाएंगे लेकिन यह सिर्फ भावनाओं को कुछ नहीं समझते सिर्फ वहां मौज मस्ती करने जाते हैं और हार जाते हैं। देश तो यह चाहता है कि इंडिया की टीम पूरे संसार में अव्वल रहे और नंबर एक की पोजीशन पर बरकरार रहे लेकिन इस टेस्ट मैच ने तो हद ही कर दी। हम जो नंबर एक की पोजीशन पर विद्यमान थे वह भी अब डामाडोल नजर आ रही है। इन लोगों ने यह सोच रखा है कि दस में से सिर्फ दो मैचों में ही अच्छा प्रदर्शन कर वाह वाही लूटनी है और देश को इस खेल भावना में फिर आगे के मैचों के लिए जागृत करना है।



Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

abodhbaalak के द्वारा
August 14, 2011

कपिल जी सच तो ये है की हमें क्या मिलता है, अमेरिकन और अरब के लोग कहते हैं की क्रिकेट खली बैठे लोगों का खेल है, जिनमे २४ लोग पांच दिन तक खेलते हैं और करोरो लोग साथ में अपना समय ….. वैसे ये सहवाग ने नहीं बल्कि युवराज ने कहा था की जब तक बल्ला चला…… :)


topic of the week



latest from jagran